ब्रेकअप के बाद शरीर पर कैसे पड़ता है असर
रिलेशनशिप पर्सनालिटी प्रॉब्लम्स (Relationship Personality Problems)

ब्रेकअप के बाद शरीर पर कैसे पड़ता है असर

Breakup ke baad shareer par kaise padta hai asar

Women Raftaar

शरीर के किसी भी अंग में दर्द होने पर आप कोई काम आराम से नहीं कर सकते फिर चाहे वो सिर दर्द हो या फिर दिल में दर्द। जी हां ये बात बिल्कुल सच है। दिल का सीधा कनेक्शन दिमाग से होता है। अगर आप दिल से कमजोर फील कर रहे होते हैं तो आपका दिमाग अपने आप काम करना बंद कर देता है। आपको कुछ अच्छा नहीं लगता। ब्रेकअप होने पर ऐसी ही हालत होती है।

दरअसल ब्रेकअप का संबंध केवल भावनाओं से ही नहीं होता शरीर से भी होता है। इसलिए ब्रेकअप के दौरान जब व्यक्ति बुरी तरह से आहत होता है, तो उसका दुष्प्रभाव मन के साथ-साथ शरीर पर भी दिखाई देता है। शरीर में कई तरह की परेशानियां नजर आने लगती हैं। सबसे ज्यादा परेशानियां महिलाओं में ही नजर आती हैं।

आइए आपको बताते हैं कि ब्रेकअप के बाद शरीर में क्या क्या समस्याएं होती हैं-

1. नींद न आना -

ब्रेकअप के बाद अधिकतर लोग नींद न आने की समस्या से परेशान रहते हैं। प्यार में नाकाम होने के बाद तनाव बढ़ने लगता है। तनाव बढ़ने के कारण शरीर में कार्टिसोल का उत्पादन तेजी से बढ़ता है। इसका बॉडी क्लॉक पर भी बुरा असर पड़ता है। तनाव के चलते ही नींद न आने की समस्या सामने आती है।

2. आंखों में सूजन -

जब दिल दुखी होता है तो आंखों पर इसका असर सबसे पहले दिखता है। प्यार में सफलता न मिलने पर लोग पूरी-पूरी रात रोते हैं। इसके कारण अगले दिन आंखों में सूजन आ जाती है। आपको बता दें कि ब्रेकअप से दिल दुखी होने के बाद रोने पर जो आंसू निकलते हैं उनमें नमक की मात्रा बहुत कम होती है।

वहीं चोट लगने या अन्य किसी कारण से रोने पर निकलने वाले आंसुओं में नमक की मात्रा अधिक होती है। नमक की मात्रा कम होने के चलते भी रोने से आंखें सूज जाती हैं।

3. सीने में दर्द -

ब्रेकअप और तलाक जैसी गंभीर बात से आहत होने के बाद ऐसा महूसस होता है जैसे- सिर घूम रहा हो, चक्कर आ रहा हो, सांस लेने में तकलीफ हो रही हो, आंखों के सामने अंधेरा छा रहा हो। हर तरह से बेचैनी महसूस होती है।

भावनात्मक पीड़ा होने के साथ साथ सीने में शारीरिक पीड़ा भी महसूस होती है। कई बार तो ऐसा दर्द महसूस होता है जैसे किसी ने छाती में मुक्का मारा हो या फिर छाती पर कुछ भारी रख दिया हो।

4. डाइजेशन में गड़बड़ी -

ब्रेकअप के बाद मांसपेशियों में दर्द होता है जिसके चलते शरीर में मौजूद कार्टिसोल हॉर्मोन की सप्लाई पाचन संबंधी अंगों की तरफ डायवर्ट हो जाती है। जब कार्टिसोल की सप्लाई पाचन संबंधी अंगों की तरफ जरूरत से ज्यादा होती है, तो भूख कम होना, डायरिया और पेट में मरोड़ जैसी समस्याएं होती हैं। 

हार्वर्ड मेडिकल स्कूल में हुए एक शोध के अनुसार, जब आप ब्रेकअप के दौर से गुज़र रहे होते हैं, तो आपका मस्तिष्क भूख मिटानेवाले हार्मोन का उत्पादन अधिक करता है। 

5. मांसपेशियों में दर्द -

बेक्रअप के बाद मांसपेशियों में सूजन आ सकती है, सिरदर्द बढ़ सकता है और गर्दन में भी अकड़न आ सकती है. आपके पूरे शरीर में दर्द का एहसास हो सकता है। कई बार पैर भी इतने स्थिर (स्टिफ) हो जाते हैं कि पैदल चलना और सीढ़ियां चढ़ना भी मुश्किल हो जाता है।

6. वजन बढ़ना -

ब्रेकअप के बाद लोग तनावग्रस्त हो जाते हैं। कभी कभी स्ट्रेस और तनाव के चलते वजन धीरे-धीरे बढ़ने लगता है। इसका कारण है कि तनावग्रस्त होने पर शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन के प्रति कम संवेदनशील होने लगती हैं और शरीर इसकी क्षतिपूर्ति करने के लिए अधिक इंसुलिन का उत्पादन करने लगता है।

इसके चलते शरीर में शुगर फैट के रूप में एकत्रित होने लगता है और  वजन धीरे-धीरे बढ़ने लगता है। आपको बता दें कि जब लोग ब्रेकअप से आहत होते हैं, तो उस समय उनका मन मीठा खाने का करता है और इन चीज़ों को खाने से वजन बढ़ता है।

7. स्किन की समस्याएं -

ब्रेकअप के बाद तनाव का स्तर काफी बढ़ जाता है। तनाव होने पर शरीर में स्ट्रेस हॉर्मोन बढ़ने लगता है। इसके चलते त्वचा की चमक खत्म हो जाती है। अगर आप पहले से ही पिंपल्स, सोरायसिस और एग्ज़ीमा जैसी त्वचा संबंधी समस्याओं से परेशान हैं तो ब्रेकअप के बाद आपकी त्वचा की रंगत और भी खराब होने लगती है।

8. दिल संबंधी परेशानी -

कार्डियोलॉजिस्ट्स का मानना है कि ब्रेकअप के समय व्यक्ति भावनात्मक रूप से टूट जाता है इसलिए उस वक्त उसे हार्ट संबंधी तकलीफ या दिल का दौरा पड़ने का खतरा अधिक होता है। दरअसल ब्रेकअप के दौरान व्यक्ति के शरीर में एंड्रेनालाइन का स्तर बढ़ा हुआ होता है। ऐसे में हार्ट अटैक होने की संभावना बनी रहती है।

9. इम्यूनिटी कमजोर होना - 

ब्रेकअप के दौरान अक्सर मन में नकारात्मक ख्याल आते हैं। इन नकारात्मक ख्यालों के कारण अवसाद, अकेलापन, तनाव और चिड़चिड़ापन बढ़ता है। ऐसे में  शरीर का इम्यून सिस्टम कमजोर पड़ने लगता है और व्यक्ति बार-बार बीमार पड़ता है।