ब्रेस्ट कैंसर को कैसे रोकें, ये रहे बेस्ट टिप्स (Breast cancer ko kaise roke, ye rahe best tips)


भारत में महिला ब्रेस्ट कैंसर के मरीजों की संख्या काफी अधिक है। ज्यादातर शहरी महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के मामले देखे जाते हैं। ब्रेस्ट शरीर का एक अहम अंग है। ब्रेस्ट टिश्यू के माध्यम से दूध बनाता है। ये टिश्यू डक्ट के जरिए निप्पल से जुड़े होते हैं।

आपको बता दें कि ज्यादातर ब्रेस्ट कैंसर डक्ट में छोटे कैल्शिफिकेशन के जमने से या स्तन के टिश्यू में छोटी गांठ बनने से होता है। इसके बाद ये बढ़कर कैंसर में ढलने लगते हैं। इसका प्रसार लिंफोटिक चैनल या रक्त प्रवाह के जरिए अन्य अंगों की ओर हो सकता है। ब्रेस्ट कैंसर के कई लक्षण होते हैं, जिसमें स्तन में गांठ, स्तन में सूजन और स्तन की त्वचा में बदलाव होना शामिल हैं।

आपको बता दें कि ज्यादा उम्र, परिवारिक इतिहास, पीरियड्स में तकलीफ, खेल कूद न करना, बच्चा न होना, अधिक वजन होना ऐसे कारण हैं जो ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को बढ़ाते हैं। अगर महिलाएं अपने आप को इस स्थिति से दूर रखना चाहती हैं तो कुछ चीजों को अपनी डाइट से दूर करें।

हालांकि ये जरूरी नहीं ऐसा करने से आपको ब्रेस्ट कैंसर नहीं होगा लेकिन इसके खतरे को कम किया जा सकता है। इसके अलावा कुछ जरूरी एतिहात बरतने से इसका खतरा कम होता है।

आइए आपको बताते हैं ऐसी कौन कौन सी चीजें हैं जिनका सेवन न करने से आपका खतरा कम हो सकता है। ये रहे बेस्ट टिप्स -

 

1. नियमित रूप से शराब पीना -

नियमित रूप से शराब का सेवन करने से ब्रेस्ट कैंसर का खतरा बढ़ता है। एल्कोहल का सेवन एस्ट्रोजेन के स्तर को बढ़ाता है और डीएनए कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाता है। इसी के चलते महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर की समस्या देखी जाती है।

2. ज्यादा चीनी या मीठा  खाना -

एक अध्ययन में खुलासा हुआ कि शुगर से भरपूर डाइट ब्रेस्ट ट्यूमर के विकास में मदद करता है। केच-अप, स्पोर्टस ड्रिंक, चॉकलेट मिल्क सहित शुगर युक्त फूड ट्यूमर को बढ़ाने में मदद करते हैं।

3. खाने में फैट -

आपको बता दें कि प्रोसेस्ड फूड में मिलने वाला फैट ब्रेस्ट कैंसर को बढ़ाने में मदद करता है। फास्ट फूड जैसे बर्गर, फ्रेंच फ्राइज, चाट महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को बढ़ाते हैं।

4. खाने में मटन का सेवन - 

फैट, सॉल्ट और प्रिजर्वेटिव से युक्त रेड मीट या मटन महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को बढ़ाता है। वह महिलाएं, जो रेड मीट का सेवन ज्यादा करती हैं उनमें इस रोग के होने की संभावना बहुत अधिक होती है।


क्या ये लेख आपके लिए उपयोगी है?

हां नहीं  

सम्बंधित लेख