छोटे बच्चों को कपड़े पहनाने से पहले जानें जरूरी टिप्स (Chote bacho ko kapde pehnane se pehle jane jaroori tips)


छोटे बच्चों के खाने और कपड़ों से लेकर हर चीज का ध्यान रखने की बेहद जरूरत होती है। उनकी दवाइयों, खानों आदि को लेकर डॉक्टर से सलाह ली जाती है , तो कपड़ों को लेकर भी सावधानी बरतनी बेहद जरूरी है। कई विषेशज्ञों का मानना है कि बच्चों को मौसम के अनुसार ही आरामदायक कपड़े पहनाने चाहिए।

अधिक जानकारी के लिए इस लेख को जरूर पढ़ें। इस लेख में हम आपको बताते हैं छोटे बच्चों को कपड़े पहनाने (how to choose newborn babies clothes) से पहले ध्यान में रखने वाली जरूरी बातें। चलिए बताते हैं –

 

1. गर्मी के अनुसार कपड़े :

गर्मी के मौसम में बच्चों को हमेशा ठंडक देने वाले कपड़े ही पहनाएं जैसे सूती या कॉटन के कपड़े और सिंथेटिक कपड़े पहनाने से बचें। बच्चों को सिंथेटिक कपड़े नहीं पहनाने चाहिए इससे उन्हें घमोरी की समस्या हो सकती है।

2. धूप में निकलने से पहले :

गर्मियों में धूप में बाहर निकलने से पहले बच्चों को लंबी स्लीव्स के कपड़े पहनाएं (Newborn baby clothes) और सिर को ढकने के लिए उन्हें कैप पहनाएं या फिर अपने दुपट्टे या टॉवल से भी उनका सिर ढक सकती हैं।

3. डायपर रैशेस :

बच्चों को डायपर पहनाने से अच्छा है आप उसे कपड़े की नैपी पहनाएं। कपड़े की नैपी बेहद आरामदायक होती है। कपड़े की नैपी से बच्चे को रैशेस नहीं होते और डिस्पोजेबल भी होती है। अगर आपको बच्चे को डायपर पहनाना ही है तो पहनाने से पहले उनके क्षेत्र पर पाउडर लगा दें या फिर कोशिश करें डायपर ठंड में ही पहनाएं या फिर बच्चे को ठंडे वातावरण में ही रखें।

4. ठंड में कपड़े :

सर्दियों में शिशु के कपड़े जितना हो उतने गर्म नरम और आरामदायक होने चाहिए। साथ ही बच्चे के हाथ-पैर भी बेहद ठंड रहते हैं तो गर्म रखने के लिए दस्ताने और गर्म ऊनी के मोजें पहनाएं। 

5. बच्चे की त्वचा को सूट होने वाला कपड़ा पहनाएं :

जैसा कि हमने आपको ऊपर भी बताया कि बच्चे को कपड़े हमेशा तापमान और मौसम के अनुसार ही पहनाएं। बच्चे को ठंड में सीधा ऊनी कपड़े पहनाने के बजाए पहले सूती कपड़ा पहनाएं फिर ऊनी कपड़ा। ऊनी कपड़े से बच्चे की त्वचा पर रैशेस भी हो सकते हैं या चुभने से बच्चा परेशान हो सकता है।

6. सौम्य साबुन का उपयोग : 

बच्चों के लिए हमेशा कपड़े क्वालिटी वाले ही लें और बच्चों के कपड़े धोने के लिए सौम्य साबुन का ही उपयोग करें और अच्छे से पानी से धोएं। वरना साबुन कपड़ों में रहने से बच्चों की त्वचा को नुकसान पहुंच सकता है।


क्या ये लेख आपके लिए उपयोगी है?

हां नहीं  

सम्बंधित लेख