कामकाजी माएं ऐसे बढ़ाए फटाफट बच्चों से बॉन्डिंग (Kaamkaji maaye aise badhaye fatafat bachho se bonding)


कामकाजी मां होने की वजह से क्या आप भी बच्चों को अच्छी तरह से समय नहीं दे पाती। अगर ऐसा है तो पहले इस बारे में ध्यानपूर्वक सोचें क्योंकि बच्चों के जीवन में मां सबसे ऊपर होती हैं। बच्चों के प्रति आपके गलत व्यवाहर की वजह से उनके ऊपर गलत प्रभाव पड़ता है। तो ऐसे में अब आप परेशान मत होइए। आपको बस अपने व्यस्त समय में से कुछ वक्त निकालकर अपने बच्चों को देना है।

इस लेख में हम आपको फटाफट तरीके बता रहे हैं जिनकी मदद से आप अपने बच्चों के साथ एक अच्छा समय बिता सकते हैं। तो चलिए आपको बताते हैं –

 

1. दिनभर बच्चों के साथ बात करें:

रात में खाने के समय दिनभर की घटनाओं और अच्छी व बुरी ख़बरों के बारे में बात करें। लेकिन शुरुआत सबसे पहले आपको अपने बच्चों से करनी है। अपने बच्चों से आप शुरुआत करेंगे तो देखिएगा आपके पूरे दिन का स्ट्रेस भी कम हो जाएगा।

 

2. डिनर पर बच्चों से मदद मांगे:

जब भी आप रात में डिनर बनाएं तो बच्चों को छोटी-छोटी चीजों के लिए उन्हें किचन में बुलाएं। जैसे आप फ्रिज से सामान लाना रखना, डाइनिंग टेबल पर प्लेट रखने और परिवार के सदस्यों को बुलाने का काम दे सकती हैं। साथ ही अगर आप कोई स्पेशल डिनर बना रही हैं तो उसे आपने कैसे बनाया है और क्यों बनाया है जैसी बातें बताएं। इस तरह आप इन समय के बीच भी बच्चों के साथ घुली मिली रहेंगी।

 

3. खबरे दिखाएं:

आपके बच्चे की रुचि जिस भी चीज़ में है उससे सम्बंधित ख़बरें उन्हें दिखाएं। इससे उनका इंट्रेस्ट बढ़ेगा और जनरल नॉलेज भी बढ़ेगी। साथ ही आप अपने बच्चे को सुबह न्यूसपेपर में आयी उनकी रुचि की खबरों को एक से दो लाइन में बता सकती हैं।

 

4. कोई गेम खेलें:

रोजाना बच्चों के साथ आप मस्तीभरा खेल खेल सकते हैं या फिर जनरल नॉलेज वाला गेम भी खेल सकती हैं। इससे बच्चा इधर उधर रहने की बजाए आपके साथ ज्यादा रहने की कोशिश करेगा। आप एक लॉटरी सिस्टम रख सकते हैं और उसमें लोगों का नाम लिख दें। एक पर्ची निकालने के बाद जिस भी सदस्य का नाम आएगा वो हॉट सीट पर बैठेगा और उसे हां या ना में सवालों का जवाब देना होगा।

 

5. थोड़ी मस्ती करें:

बच्चों के साथ खाना पीना, कहना सुनना, सवाल-जवाब सब हो गए हो तो अब उनके साथ हंसी मज़ाक करें। इसमें आप परिवार के सभी सदस्यों के साथ एक-एक चुटकुला सुनाएं और जिसका चुटकुला सबसे अच्छा होगा, अगले दिन तोहफा मिलने की शर्त रखें। इसमें बच्चों को बेहद मजा आता है वो किसी भी तरह के चुटकुले सुनाते हैं और खुद में ही हंसने लगते हैं। ये सब देखकर परिवार के सदस्य भी उसमें शामिल हो जाते हैं। 

लेकिन ध्यान रहे एक दिन समय बिताने के साथ-साथ आपको ये रूटीन रोज रखना है, अगर आप ऐसा नहीं करेंगे तो बच्चों का इंट्रेस्ट अगली बार के लिए खत्म हो चुका होगा।


क्या ये लेख आपके लिए उपयोगी है?

हां नहीं  

सम्बंधित लेख