काली मिर्च खाने से दूर होंगी कई बीमारियां (Kali mirch khane se door hongi kayi bimariyan)


काली मिर्च गर्म मसालों में एक प्रमुख मसाला है। यह औषधीय गुणों से भी भरपूर होता है। काली मिर्च केवल खाने का स्वाद ही नहीं बढ़ाता बल्कि त्वचा से जुड़ी समस्याओं से लेकर पेट से जुड़ी बीमारियों का इलाज भी करता है। आइए आपको बताते हैं काली मिर्च से जुड़े फायदे।

 

1. सर्दी खांसी होने पर चाय में काली मिर्च और तुलसी के पत्ते डाल दें, इससे बहुत आराम मिलता है। खांसी में आराम के लिए थोड़ा सा गुड़ पिघलाकर उसमें थोड़ी सी काली मिर्च का पाउडर मिलाएं।

थोड़ा ठंडा होने के बाद उसकी छोटी-छोटी गोलियां बना ले, दो-दो गोलियों का सेवन खाने के बाद करें। इससे खांसी से राहत मिलेगी। सूखी खांसी में आराम के लिए दो चम्मच दही, एक चम्मच चीनी और थोड़ी सी पिसी हुई काली मिर्च को चाटने से राहत मिलती है।

 

2. जुकाम के कारण बनने वाले कफ से आराम पाने के लिए एक चम्मच शहद में दो से तीन पिसी हुई काली मिर्च में एक चुटकी भर हल्दी मिलाकर खाने से राहत मिलती है। वहीं सौंठ, काली मिर्च, पिसी इलायची और मिश्री को पीस कर चूर्ण बना लें। अब इसके साथ बीज निकले हुए मुनक्का और तुलसी के पत्ते पीसकर डालें और सही तरह से मिला लें।

इस मिश्रण की गोलियां बनाकर सुखा लें। इसे नाक में एलर्जी होने पर सुबह शाम गर्म पानी के साथ लें। नाक से बहता खून बंद करने के लिए पिसी काली मिर्च पुराने गुड़ के साथ खाएं।

 

3. बैठे गले को ठीक करने के लिए काली मिर्च और बताशे रात को सोने से पहले चबाकर खाएं। अगर बुखार है तो तुलसी, काली मिर्च और गिलेय का काढ़ा पीना फायदेमंद होता है। फेफड़े तथा सांस नली में संक्रमण होने पर काली मिर्च और पुदीने की चाय जरूर पीएं। इसके अलावा पिसी काली मिर्च, घी और मिश्री बराबर मात्रा में मिलाएं।

इसे सुबह शाम एक-एक चम्मच लें, बहुत आराम मिलेगा। काली मिर्च और काला नमक दही में मिलाकर खानें से पाचन संबंधी समस्या दूर होती है। छाछ में काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर पीनें से पेट के कीटाणु मरते हैं और पेट की बीमारियां भी दूर होती है।

 

4. एक कप पानी में आधा नींबू का रस,आधा चम्मच पिसी काली मिर्च और आधा चम्मच काला नमक मिलाकर पीने से पेट में होने वाली गैस की समस्या से निजात मिलता है। बवासीर के रोग में आराम पाने के लिए काली मिर्च, जीरा और शक्कर या मिश्री पीसकर मिश्रण बना लें। इसे सुबह शाम पानी के साथ लें।

काली मिर्च आंखों के लिए भी बेहद उपयोगी होती है। भुने आटे में देसी घी,काली मिर्च और चीनी मिलाकर मिश्रण बनाएं। सुबह शाम पांच चम्मच मिश्रण का सेवन करें। दांतो के पायरिया से निजात पाने के लिए काली मिर्च को नमक के साथ मिलाकर मंजन करना चाहिए। इससे दांतो में चमक और मजबूती बढ़ती है।

 

5. वहीं ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने के लिए दिन में लगभग दो-तीन बार काली मिर्च के दानों के साथ किशमिश का सेवन करें। हाई ब्लड प्रेशर में आधा गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच काली मिर्च पाउडर मिलाकर दो-दो घंटे के अंतराल में पीने से आराम मिलता है।

एक गिलास गाजर के रस में नमक और पिसी काली मिर्च मिलाकर पीने से चेहरे पर झाइयों से राहत मिलेगी। वहीं चेहरे पर झाइयां होने पर काली मिर्च, जायफल और चंदन तीनों का पाउडर बराबर मात्रा में मिलाएं। दो-तीन चुटकी पाउडर को थोड़े पानी में मिलाकर उबटन बनाएं। इसे चेहरे पर लगाएं। सूखने पर पानी से चेहरा धो लें।

 


क्या ये लेख आपके लिए उपयोगी है?

हां नहीं  

सम्बंधित लेख