कूल्हे में दर्द इन तरीकों से करें जल्द दूर (Kulhe me dard in tareekon se kare jald door)


इस भागदौड़ भरी जिंदगी में हमारा शरीर इतना थक जाता है कि हर रोज हमारे हाथ पैर या अन्य हिस्सों में दर्द होने लगता है। ऐसी हालत में शरीर पर ध्यान देना बेहद जरूरी हो जाता है। आपको बता दें कि शरीर के हर अंग की तरह कूल्हों में भी दर्द की समस्या बहुत ही खतरनाक हो सकती है। इसके लिए जरूरी है आप अपने शरीर के वजन, भार उठाने और एक्सरसाइज पर ध्यान दें।

अगर आप कूल्हे के दर्द से परेशान रहती हैं या फिर अचानक आपके कूल्हे में दर्द उठता है तो हम आपको ऐसे कुछ तरीके बताने जा रहे हैं, जिसके जरिए आप आसानी से इस दर्द को जल्द दूर कर सकती हैं।

 

1. वजन कम करें -

आपकी बॉडी के अतिरिक्त भार का 10 फीसदी हिस्सा आपके कूल्हों और घुटनों पर दबाव डालता है। अगर आपको अपने जोडों में तनाव महसूस हो रहा है तो जल्द से जल्द डॉटकर से संपर्क करें।

आप कुछ ऐसे एक्सरसाइज की मदद ले सकती हैं जो वजन कम करने में सहायक हो। ऐसा करने से आपको कूल्हे के दर्द से राहत मिलेगी और आपके लिए चलने में भी आसानी होगी।

2. संभल कर उठाएं भार -

आपका वजन ही आपके बॉडी फैट के बारे में बताता है। आपके कूल्हे, आपके हाथों या फिर पीठ पर उठाए गए भार का वजन भी सहते हैं। इस दबाव को कम करने के लिए सामान या फिर ग्रॉसरी को उठाने के लिए ट्रॉली या फिर हैंडकार्ट का प्रयोग करें जिसमें पहिए लगे हों।

अगर आप अपने पास पर्स रखती हैं तो एक बैकपैक का इस्तेमाल करें ताकि ज्यादा वजन आपकी पीठ को दिक्कत न पहुंचाए। ध्यान रहे कि बैकपैक में भी वजन ज्यादा न रखें।

3. एक्सरसाइज करें -

जब तक दर्द से राहत न मिले तक अपने कूल्हों को पूरा आराम दें। इसके अलावा मांसपेशियों को मजबूत बनाने और जोड़ों के दर्द को दूर करने के लिए अपनी सटीक एक्सरसाइज करें। ज्यादा दर्द होने पर अपने डॉक्टर से संपर्क करें। साथ की वॉकिंग, तैराकी या फिर योग के जरिए अपने दर्द को कम करने की कोशिश करें।

4. भारी-भरकम व्यायाम से बचें -

एक्सरसाइज करने से आपके कूल्हों का दर्द कम होगा लेकिन इसका ये मतलब नहीं है कि आपके ऊंची जगहों पर दौड़ लगाना या किक बॉक्सिंग शुरू कर दें। आप कुछ मिनटों के लिए स्टेशनरी बाइक पर धीमी शुरुआत कर सकती हैं।

अगर ये दर्द आपको मजबूती प्रदान करता है तो आप अपने वर्कआउट की लंबाई को बढ़ा सकती हैं। हालांकि ज्यादा भारी-भरकम व्यायाम न करें।

5. स्वीमिंग जरूर करें -

लो इम्पेक्ट एक्सरसाइज के लिए आप स्वीमिंग या स्पा का प्रयोग कर सकती हैं। पानी आपकी बॉडी को एक अलग सपोर्ट देता है और आपके जोड़ों से तनाव को दूर कर देता है।

यह आपकी मांसपेशियों को मजबूत बनाने में मदद करता है। एक्सरसाइज के बारे में आप डॉक्टर से बात करें जो आपके कूल्हों के दर्द को दूर करने में मदद करेगा।


क्या ये लेख आपके लिए उपयोगी है?

हां नहीं  

सम्बंधित लेख