अपने पसंदीदा पौधे के बीजों की बनाएं राखी
पर्सनालिटी (PERSONALITY)

अपने पसंदीदा पौधे के बीजों की बनाएं राखी

Women Raftaar

बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी (एक पवित्र धागा) बांधते समय उनकी लंबी आयु, समृद्धि और खुशियों के लिए प्रार्थना करती हैं। भाई बदले में अपनी बहन को गिफ्ट देता है साथ ही उसकी रक्षा करने का वचन देता है। हर साल, रक्षा बंधन हिंदू महीने की पूर्णिमा 'श्रावण' को मनाया जाता है। इस वर्ष, यह 3 अगस्त को मनाया जाएगा। त्यौहार पास आने पर आपने राखी ढूंढने की शुरुआत कर दी होगी।

कुछ लोग सरल राखी पसंद करते हैं, जबकि कुछ लोग मार्किट में जाकर स्टाइलिश राखी लाना पसंद करते हैं। दुनिया के लिए, यह केवल एक धागा हो सकता है, लेकिन भारत में ज्यादातर लोगों के लिए, राखी सुरक्षा और एकजुटता का प्रतीक है क्योंकि इसमें विशेष भावना जुडी होती है। हर साल दुनिया भर में लाखों लोग रक्षाबंधन मनाते हैं, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि ये राखियां कहा जाती हैं? कूड़े दान में।

राखी को इको फ्रेंडली कैसे बनाते हैं?

राखी कूड़े में फेंकने के बाद ये नदियों में बह जाती हैं या मिट्टी में दब जाती हैं जिसकी वजह से प्रदूषण बढ़ता है। पक्षी और मछलियां इस तरह की चीजें खाती हैं। कुछ को जलाकर फेंक दिया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि राखी प्लास्टिक, और रासायनिक रंगों से बनाई जाती है, और इसलिए, वे पर्यावरण को नुकसान पहुंचाती हैं?

लेकिन आज हर दूसरी समस्या की तरह, इसका पर्यावरण के अनुकूल समाधान भी है। भारत भर में पर्यावरण के प्रति जागरूक नागरिकों ने मुट्ठी भर इको फ्रेंडली राखी बनाना शुरू कर दिया है, जो न केवल प्रकृति की रक्षा करेगा, बल्कि राखी को भी आप नए तरीके से बना सकते हैं।

इस रक्षा बंधन को बनाएं इको फ्रेंडली। आप पौधे के बीज की मदद से भाई को बांधें इको फ्रेंडली राखी। बजाए मार्केट में मिल रही केमिकल और प्लास्टिक से बनी राखी के। इस लेख में हम आपको इको फ्रेंडली राखी बनाने के तरीके बता रहे हैं, इससे आप पर्यावरण को भी बचाएंगे और इस बार भाई को नए डिजाइन की राखी बांध पाएंगी।

सामग्री –

  • फेब्रिक (आपकी पसंद की)

  • सूई और धागा

  • रिब्बन/सुतली

  • पॉमपॉम

  • ग्लू चिपकने के लिए

  • पौधे के बीज (कोई भी)

कैसे बनाएं –

अपनी पसंद का कोई भी फेब्रिक चुनें। आप किसी भी कपड़े से कोई भी पुराना फेब्रिक चुन सकते हैं जैसे ड्रेस, साड़ी आदि। यह फेब्रिक राखी बनाने के लिए बेहद इको फ्रेंडली हैं। अब कपड़े को गोल आकार में 4 इंच के डायमीटर में काटें जिससे आप 2 इंच के डायमीटर की राखी को बना सकें।

अब किनारे को हल्का सा अंदर की तरफ मोड़कर सिलना शुरू करें या चिपकना शुरू करें। इस बात का ध्यान रखें कि आपको ज्यादा मजबूती से सिलाई नहीं करनी है, हल्की सी सिलाई करें जिससे आप अपने अगले चरण में कपड़े को इकट्ठा करने के लिए धागे को खींच सकें। जब सिलाई हो जाए, तो सूई को निकाल लें और धागे को हल्के से खीचें जिससे फेब्रिक का सिला हुआ हिस्सा इखट्ठा हो जाए।

धागे में गांठ लगाएं और फूल की बनी हुई शेप को सपाट कर दें, जिससे वो अच्छे से फ्लावर शेप में दिखने लगे। अगर आप इस राखी को और सजाना चाहते हैं, तो फूल के ऊपर बीच में पॉमपॉम लगा सकते हैं। साथ ही राखी से मिला हुआ रिब्बन राखी के नीचे ग्लू स्टिक से चिपकाएं। तो ये आपकी बन गयी इको फ्रेंडली राखी। अब आते हैं पौधे के बीज से बनी राखी पर, आप आसानी से एक बीज सहित अपनी राखी को एक वृक्षारोपण योग्य राखी में बदल सकते हैं (इस बात का ध्यान रखें कि आप कपड़े को सिलाई करते समय बीच में एक पौधे का बीज जोड़ना न भूलें)।

बीज राखी प्राकृतिक रूप से रंगे, मुलायम स्वदेशी कार्बनिक सूती धागे और बीजों से बनी होती है। इस रक्षा बंधन, भाइयों और बहनों के बीच अटूट बंधन को मजबूत बनाने के लिए एक प्लांटेबल राखी चुनें। रक्षा बंधन की शुभकामनाएँ!