पीला फंगस सफेद और काले फंगस से कैसे है अलग : कारण, लक्षण, जोखिम और बचाव

पीला फंगस सफेद और काले फंगस से कैसे है अलग : कारण, लक्षण, जोखिम और बचाव
पीला फंगस सफेद और काले फंगस से कैसे है अलग : कारण, लक्षण, जोखिम और बचाव

भारत में कोरोनावायरस की दूसरी लहर के मामलों में कुछ कमी देखने को मिल है, लेकिन इसके साथ ही नए फंगल संक्रमण की शिकायत लोगों में देखने को मिलने लगी है। ब्लैक और सफेद फंगस के बाद अब एक और फंगस आया है पीला फंगस।

उत्तर प्रदेश में COVID-19 से ठीक होने वाले एक मरीज को हाल ही में पीला फंगस होने का पता चला था, जबकि वह पहले से ही काले और सफेद दोनों तरह के फंगल संक्रमणों से संक्रमित था। पीला कवक और भी खतरनाक है, क्योंकि यह आंतरिक रूप से उत्पन्न होता है, जिससे रोग की पहचान और उपचार करना अधिक कठिन हो जाता है।

पीला फंगस क्या है?

पीला फंगस, जिसे म्यूकर सेप्टिक भी कहा जाता है, एक कवक संक्रमण है, जो विशेषज्ञों के अनुसार आम तौर पर मनुष्यों में नहीं बल्कि छिपकलियों में होता है। COVID-19 के उपचार में स्टेरॉयड और इम्यूनोसप्रेसेन्ट शामिल हैं, जिसकी वजह से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है।

पीले फंगस के लक्षण

वजन कम होना, भूख कम लगना, सुस्ती आदि पीले फंगस संक्रमण के सामान्य लक्षण हैं। लेकिन अगर समय पर इसका पता नहीं चलता है, तो मवाद का रिसाव, आंखें अंदर चली जाना, अंग विफलता, घावों का धीरे-धीरे भरना और नेक्रोसिस (जीवित ऊतकों में कोशिकाएं समय से पहले मर जाती हैं) सहित लक्षण अधिक गंभीर हो सकते हैं।

क्या पीला फंगस सफेद और काले फंगस से ज्यादा खतरनाक है?

समय पर पता चलने पर पीले कवक का आसानी से इलाज किया जा सकता है। लेकिन चूंकि यह शरीर के भीतर उत्पन्न होता है, इसलिए इसका पता लगाने और उपचार में अक्सर देरी होती है। यह कई लोगों में अंग विफलता का कारण भी बन सकता है। हालांकि मृत्यु दर पर सटीक आंकड़ा देने के लिए विशेषज्ञों द्वारा अभी तक कोई स्पष्ट अध्ययन या डेटा नहीं है।

ब्लैक फंगस

अब तक ब्लैक फंगस के 10,000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। फंगस कुछ गंभीर मामलों में आंखों, नाक, चेहरे, फेफड़ों और यहां तक कि मस्तिष्क को भी प्रभावित करता है। विशेषज्ञों के अनुसार, काले कवक के मामलों में वृद्धि के पीछे स्टेरॉयड का दुरुपयोग एक कारण हो सकता है।

जिन लोगों को लंबे समय तक स्टेरॉयड दिया जाता है, उन्हें अन्य समस्याएं हो सकती हैं या लंबे समय तक ऑक्सीजन के सहारे पर रहना पड़ता है, स्टेरॉयड व्यक्तियों में संक्रमण होने का खतरा अधिक होता है। अगर समय पर इसका इलाज नहीं कराया गया तो यह जानलेवा भी हो सकता है।

सफेद फंगस

काले कवक की तुलना में सफेद कवक के कम मामलों का पता चला है। सफेद कवक के लक्षण COVID-19 संक्रमण के समान होते हैं। जिन लोगों ने प्रतिरक्षा का ध्यान नहीं रखा है या स्वच्छता का पालन नहीं किया है, उनमें संक्रमण होने का खतरा अधिक होता है। इलाज में देरी खतरनाक हो सकती है।

सफेद कवक जिस तरह से फैलता है, वो और अधिक घातक हो जाता है, जो महत्वपूर्ण अंगों को नुकसान पहुंचा सकता है। यह मस्तिष्क, पाचन तंत्र, श्वसन अंगों, गुर्दे और यहां तक कि निजी अंगों को भी प्रभावित कर सकता है।

पीले कवक का क्या कारण है?

30-40 प्रतिशत से कम ह्यूमिडिटी का स्तर कवक के विकास को बढ़ावा दे सकता है। कवक के बढ़ने का मुख्य कारण खराब हाईजीन है। बासी भोजन भी कवक के विकास का कारण बन सकता है।

सावधानियां

पीले फंगस से खुद को बचाने के लिए कुछ सावधानियां बरतें

  • अपने घर और आसपास को साफ रखें

  • बासी भोजन का सेवन न करें

  • कमरे में नमी को नियंत्रण में रखें। बहुत अधिक ह्यूमिडिटी कवक के विकास को बढ़ावा दे सकती है। क्रॉस वेंटिलेशन बनाए रखने की कोशिश करें।

  • कोविड-19 के मरीजों को जल्द से जल्द अपना इलाज शुरू कर देना चाहिए ताकि पीली फंगस जैसी जटिलताएं पैदा न हों।

No stories found.