गर्भावस्था के दौरान ये 6 चीजें बिलकुल न करें
मां का स्वास्थ्य और देखभाल (Mother Care)

गर्भावस्था के दौरान ये 6 चीजें बिलकुल न करें

Women Raftaar

ड्रग्स और शराब के सेवन के अलावा, ऐसी कोई चीज नहीं हैं जिन्हें आप प्रेगनेंसी के दौरान नहीं कर सकते। आप नौ महीनों के दौरान भी अपना सामान्य जीवन जी सकते हैं। लेकिन क्योंकि आपके बढ़ते बच्चे का स्वास्थ्य आपके लिए उतना ही आवश्यक है, तो इस लेख में उन छह चीजों की सूची दी गई है जो आपको गर्भावस्था के दौरान नहीं करनी चाहिए:

इन आहारों को न खाएं -

कच्चा मीट और शेल फिश न खाएं, डेली मीट (पकाने से पहले का मीट जो कटा हुआ होता है और ठंडा या गर्म दिया जाता है), मछली जिसमें अधिक मात्रा में मरकरी होती है, कच्चे अंडे, स्मोक्ड सी फ़ूड और अनपश्चराइज्ड डेयरी का सेवन नहीं करना चाहिए। लीन प्रोटीन, स्वस्थ वसा, अधिक फल, सब्जियां और पानी को अपनी रोजाना की डाइट में शामिल करें।

कैफीन का सेवन न करें -

कैफीन मूत्रवर्धक और प्रकृति में उत्तेजक है। नियमित रूप से कुछ कप पीने से आपका रक्तचाप, हृदय गति बढ़ सकती है और इससे आपको शरीर में पानी की कमी भी हो सकती है। हालांकि कैफीन आपके शरीर को प्रभावित नहीं कर सकता है, यह आपके बढ़ते बच्चे के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है क्योंकि उसका चयापचय विकसित हो रहा होता है। प्रतिदिन 150 से 300 मिलीग्राम से अधिक कैफीन का सेवन न करें। याद रखें कैफीन सिर्फ चाय और कॉफी में ही नहीं बल्कि चॉकलेट, सोडा और यहां तक ​​कि कुछ काउंटर दवाओं में भी पाया जाता है।

दवा लेने से पहले डॉक्टर से पूछें -

कुछ OTC आपके बढ़ते बच्चे के लिए हानिकारक हो सकते हैं। कोई भी दवा या सप्लीमेंट्स लेने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर करें।

गर्म टब या सॉना का इस्तेमाल न करें -

जब आप गर्भावस्था के दौरान दर्द और ऐंठन महसूस कर रही हों तो गर्म टब में आराम करना एक अच्छा विचार हो सकता है। लेकिन शरीर का एक बढ़ा हुआ तापमान पहली तिमाही में जन्म दोष का कारण बन सकता है। गर्म टब का उपयोग न करें, इसके बजाय गर्म पानी से नहाएं।

ज्यादा समय तक न बैठे और न खड़े हो -

गर्भवती होने पर, लंबे समय तक एक ही स्थिति में रहना समस्याग्रस्त हो सकता है। इससे टखनों और नसों में सूजन हो सकती है। यदि आप बहुत लंबे समय से बैठे हैं तो छोटे ब्रेक लें और आराम-आराम से घूमें। अगर बहुत देर से चल रहे हैं तो बैठें और अपने पैरों को एक स्टूल पर रखें।

औरो द्वारा दिया गया सुझाव न सुनें -

ज्ञान प्राप्त करना बेहद अच्छा है, लेकिन उसे पूरी तरह से अपने जीवन पर न उतारें। अगर आपको किसी भी प्रकार की दुविधा या कोई जानकारी प्राप्त करनी है तो अपने डॉक्टर से जरूर सुझाव लें।