प्रेगनेंसी के दौरान इन 3 कारणों की वजह से नहीं करना चाहिए अत्यधिक शुगर का सेवन
मां का स्वास्थ्य और देखभाल (Mother Care)

प्रेगनेंसी के दौरान इन 3 कारणों की वजह से नहीं करना चाहिए अत्यधिक शुगर का सेवन

Women Raftaar

चीनी का अधिक सेवन कभी भी स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं माना गया है। लेकिन गर्भावस्था के दौरान चीनी के सेवन पर ध्यान रखना बेहद आवश्यक है। नौ महीने की इस यात्रा के दौरान आपके स्वाद में कुछ बदलाव आ सकता है और आपको कुछ विशेष खाद्य पदार्थ जैसे आइसक्रीम या चॉकलेट खाने की इच्छा हो सकती है, लेकिन ऐसा करना आपके और आपके बच्चे के लिए अच्छा होने की बजाए हानिकारक हो सकता है।

कई अध्ययनों से पता चला है कि बहुत अधिक परिष्कृत चीनी खाने से गर्भकालीन मधुमेह और आपके बच्चे को अस्थमा का खतरा बढ़ सकता है। गर्भावस्था के दौरान आपको अपनी डाइट पर ध्यान देना बेहद जरूरी है, साथ ही ये आपके बच्चे के विकास के लिए भी उतना ही जरूरी है। इस लेख में हम आपको मीठा अधिक खाना कितना हानिकारक हो सकता है जैसी बाते बता रहे हैं।

वजन अधिक बढ़ सकता है -

ऐसे आहार खाना जिनमें चीनी की मात्रा अधिक है, इससे आपके और आपके बच्चे का वजन बढ़ सकता है। 1000 माओं और उनके बच्चों पर एक रिसर्च की गयी, देखा गया कि जो गर्भवती महिलाएं मीठे पेय पदार्थ पी रही थी उनके बच्चों में 7 साल की उम्र के आसपास वजन बढ़ गया। बल्कि माएं जिनका वजन बढ़ गया है, उनमें वजन की समस्या डिलीवरी के बाद भी लंबे समय तक चलती है।

एलर्जी से जुड़ा होता है –

क्वीन मैरी यूनिवर्सिटी में 2017 में किए गए एक अध्ययन के अनुसार, बहुत अधिक चीनी के सेवन से बच्चों में अस्थमा और एलर्जी का खतरा बढ़ सकता है। अध्ययन के लिए, शोधकर्ताओं ने 9,000 माताओं की जांच की और उनके बच्चों पर एलर्जी परीक्षण किया जब वे सात साल के थे। अंत में, यह पाया गया कि जिन बच्चों की माताओं ने गर्भावस्था के दौरान अत्यधिक चीनी का सेवन किया, उनमें एलर्जी और अस्थमा था।

बच्चों की बुद्धि पर पड़ सकता है असर –

अमेरिकन जर्नल ऑफ प्रिवेंटिव मेडिसिन में प्रकाशित एक अन्य अध्ययन के अनुसार, गर्भावस्था के दौरान अधिक चीनी का सेवन बच्चों की बुद्धि और स्मृति को प्रभावित कर सकता है। अध्ययन के लिए, शोधकर्ताओं ने 1999 और 2002 के बीच 1,000 से अधिक गर्भवती महिलाओं और उनके बच्चों से एकत्र किए गए आहार डेटा को देखा। यह पाया गया कि बच्चों को समस्याओं को हल करने में परेशानियां आ रही थीं और उन्हें बोलने में भी दिक्कत हो रही थी।

अन्य जटिलताएं -

  • -इससे बच्चों में दिल की बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है।

  • -यह जीवन में बाद में शिशुओं के लिए चयापचय संबंधी समस्याएं पैदा कर सकता है।

मीठे की तलब को कम करने के लिए, आप फल, शेक और फलों के जूस का सेवन कर सकते हैं। अगर आपका मन चॉकलेट या आइस क्रीम खाने का हो रहा है तो आप इन्हें कम मात्रा में खाएं।