हरियाली तीज के दिन घर पर ही बनाएं ये 2 पकवान, नहीं पड़ेगी बाहर के व्यंजन की जरूरत
फेस्टिवल एंड स्पेशल रेसिपी (Festival and Special Recipe)

हरियाली तीज के दिन घर पर ही बनाएं ये 2 पकवान, नहीं पड़ेगी बाहर के व्यंजन की जरूरत

Dharm Raftaar

हरियाली तीज के दिन पकवान न बनें ऐसा तो हो ही नहीं सकता। आप इस दिन घर में रहकर तरह-तरह के पकवान बना सकते हैं। इस दिन खासतौर पर घेवर, खीर, हलवा, आदि पकवान बनते हैं। इस लेख में हम आपको अलग-अलग व्यंजन के बारे में बता रहे हैं जिन्हें आप घर में रहकर आसानी से बना सकते हैं –

घेवर –

दो कप पानी, डेढ़ बड़ा चम्मच जमा गाढ़ा घी, डेढ़ कटोरी मैदा, डेढ़ कप बर्फ का ठंडा पानी, सवा 2 कटोरी शकर, गुलाब पत्ती, चुटकी भर पीला रंग, कटे हुए पिस्ता व बादाम, 1 मटका रखने वाली रिंग

कैसे बनाएं –

सबसे पहले एक बर्तन में जमा हुआ गाढ़ा घी लें। फिर बर्फ का ठंडा पानी डालकर अच्छे से फेंटे। 5 से 10 मिनट तक फेंटने के बाद घी में से पानी निकल जाएगा। अब पानी निथार दें और इसमें थोड़ा-थोड़ा मैदा मिलाकर फेंटते रहें।

जब मिश्रण से घोल पतला तैयार हो जाए, जब छोटी कड़ाही में जिसपर मटका रखा जाता है छोटी सी रिंग को रखें। इसमें घी डालकर अच्छी तरह से गर्म करें। जब घी अच्छे से गर्म हो जाए, तब रिंग के बीच में धीरे-धीरे धार बनाएं और मैदे का घोल छोड़ें। रिंग करीब आधा डूबा हुआ हो।

जब मिश्रण हल्का बादामी लगने लगे, तब सलाई की मदद से घेवर उठा लें। घेवर पर तीन से बार चाशनी डालें और घेवर को मेवे से तैयार करें खाने के लिए परोसें।

काजू कतली –

सामग्री –

एक कप पिसा हुआ काजू, पानी आवश्यकतानुसार, 5-6 बड़े चम्मच शुगर फ्री, आधा चम्मच इलायची पाउडर और चांदी का वर्क।

कैसे बनाएं -

सबसे पहले कड़ाही में पानी लें, फिर उसमें शुगर फ्री और केसर डालें। पानी में शुगर फ्री जब तक अच्छे से न घुल जाए तब तक उसे अच्छे से चलाएं। अब उसमें इलाइची पाउडर डालें। मिश्रण गाढ़ा हो जाए तो थोड़ा-थोड़ा उसमें पिसा काजू डालें। इसे लगातार चलाते रहें जिससे गुठलियां न पड़े। अच्छी तरह से धीमी आंच पर चलाते रहें।

अब तैयार मिश्रण को ठंडा करने के लिए रखें। मिश्रण जब ठंडा हो जाए तो एक थाली में घी का हाथ लगाएं और तैयार मिश्रण को उसमें एक समान फैला दें। अब ऊपर से चांदी का वर्क लगा दें और अपनी पसंदानुसार चाक़ू से उसपर आकार बनाकर काट लें।

घर पर आसान तरीके से तैयार हुई काजू कतली भगवान को भोग लगाने के लिए तैयार करें।